एम्स्टर्डम में साहित्यिक होटल

यह इस तरह क एक बह त ह अज ब ड ज इन ह टल क ल ए व कस त क य गय थ ह ल ड क र जध न म प ल त जर न म। प रत य क कमर क आ तर क भ ग स ह त य क गठज ड और य द क स थ गर भवत । च त र एक तक य पर एक ल खक य प स तक स एक म हर ब – प ल त जर क ल ए एक श रद ध जल , प रस द ध स ह त यक र और एक प रस द ध द न य क स स थ पक और बह त उन ह न प रत ष ठ त प रस क र प र ण र प स द य । ह टल क प रत य क पर सर म इसक अपन कह न ह , ज स क यह क ई कमर नह थ , बल क एक कह न य न ब ध थ । एक न ल रहन क कमर ह , ज स क ह ल ह म च य प त ह ए एक द स त क स थ क र ल क प रस द ध खरग श, य एक स ट इल ब र ट रनट न , ल क न आप ल ब क क स पस द करत ह , क ल ए द श य क श ल म न ष प द त क य ज त ह फ जर ल ड य व ल फ? इ ट र यर क सबस छ ट व वरण म बन य गय ह , यह प रक श, म ल और उन ल ग क ल ए बह त द लचस प ह ज व च र क अजनब नह ह उत तर-आध न कत व द, क य क हम र द न य एक प ठ ह , और हम इस यह ल खत ह और अब।

Heather Thompson
Rate author
सुंदर अंदरूनी। ऑनलाइन पत्रिका।
Add a comment